A Hindi Poem about Sex: Sex is Sacred | सेक्स पवित्र है...


㇐㇣㇐

सेक्स


अगर 'इश्क़' का हिस्सा है
तो पवित्र है,

अगर 'रज़ामंदी' का हिस्सा है
तो बुरा नहीं है,

और अगर 'जबरदस्ती' का हिस्सा है
तो घोर पाप है.

और हां...

"परिपक्वता एवं समझदारी"
सेक्स के सन्दर्भ में
बहुत जरुरी है.

©RajendraNehra

㇐㇣㇐


*Image by Deflyne Coppens from Pixabay

Comments

Post a comment