Hindi Poem: 'Present' does not exist | 'वर्तमान' कुछ भी नहीं है...


㇐㇣㇐

'वर्तमान'

कुछ भी नहीं है,
सिवा एक काल्पनिक क्षण के,
जो 'भूत' और 'भविष्य' को,
अलग मात्र करता है.

©RajendraNehra

㇐㇣㇐

आप भी अपनी हिंदी रचना को My Tukbandi पर प्रकाशन के लिए भेज सकते हैं. अधिक जानकारी के लिए निचे दिए गए लिंक पर जाएं:-
Submit your Hindi Stuff to ‘my tukbandi’

Comments

Post a comment