Hindi Poem: विभाजन | The Partition


㇐㇣㇐

इस सुनहरे आसमान पर कभी,
बहुत बड़ा एक बादल होता था.

राम जाने कहां से
वो जोरदार बवंडर आया,
और उड़ा ले गया कुछ टुकड़े
अपने साथ.

और वो बूढ़ा बरगद,
ख़ामोश खड़ा देखता रहा बस.

©RajendraNehra

㇐㇣㇐

आप भी अपनी हिंदी रचना को My Tukbandi पर प्रकाशन के लिए भेज सकते हैं. अधिक जानकारी के लिए निचे दिए गए लिंक पर जाएं:
Submit your Hindi Stuff to ‘my tukbandi’

*Image Source: Pexels.


Comments

  1. "उड़ा ले गया कुछ टुकड़े "
    this is the best.

    ReplyDelete
    Replies
    1. And "this is the best" is best for this poem, 😊 thank you...

      Delete
  2. This comment has been removed by the author.

    ReplyDelete

Post a comment