Hindi Poem: रिश्तों की देखभाल...


㇐㇣㇐

रिश्तों की मैली चादर को
धो ना सको तो हुजूर!
कम से कम
उलटकर ही बिछा लो.

©RajendraNehra

㇐㇣㇐

आप भी अपनी हिंदी रचना को My Tukbandi पर प्रकाशन के लिए भेज सकते हैं. अधिक जानकारी के लिए निचे दिए गए लिंक पर जाएं:-
 
*Image Source: Pexels

Comments

Post a comment