A poem dedicated to my parents: उंगली पकड़ाकर चलाते मुझे...


㇐㇣㇐

उंगली पकड़ाकर चलाते मुझे,
जब कभी अंधेरे डराते मुझे.

ये है चांद और वो रहे सितारे,
हर बार प्यार से बतलाते मुझे.

मां  की गोद में सुकून मिलता है,
जब कोमल हाथ सहलाते मुझे.

बापू की आंखें डराती हैं मगर,
हाथ के तकिए पर सुलाते मुझे.

उनकी दुआओं से सलामत हैं ये,
मेरे नन्हें कदम समझाते मुझे.

सरल शब्दों में कहता हूं बात,
ग़ज़ल के सलीके नहीं आते मुझे.


㇐㇣㇐

आप भी अपनी हिंदी रचना को My Tukbandi पर प्रकाशन के लिए भेज सकते हैं. अधिक जानकारी के लिए निचे दिए गए लिंक पर जाएं:
Submit your Hindi Stuff to ‘my tukbandi’

*Image by Mabel Amber from Pixabay

Comments

Post a comment